Dil Ka Sukoon Hindi Shayari | सुकून शायरी

Dil Ka Sukoon Hindi Shayari | सुकून शायरी

सुकून शायरी | Sukoon Shayari | Dil Ka Sukoon Shayari

दिल का सुकु और राहत तुम हो,
मेरे ख्वाबो की हकीकत हम हो,
सोचा है ज़िंगगी जिनि है तेरे साथ,
मेरे दिल की धड़कन और इबादत तुम हो,

लौट जाती है दुनिआ ग़म हमारा देखकर 
जैसे लौट जाती हैं लहरें किनारा देखकर 
तू कन्धा न देना मेरे जनाजे को 
कहीं ज़िंदा न हो जाऊं तेरा सहारा देखकर

मुहब्बत का इशारा याद रहता है
हर प्यार को अपना प्यार याद रहता है
दो पल जो प्यार की बाहों में गुज़रे हो
मौत तक वो नज़ारा याद रहता है

मेरी जान मेरी शान सब मुहब्बत है
मेरा आगाज़ मेरा अन्जाम सब मुहब्बत है
मुझे मुहब्बत से मुहब्बत है
यह मेरी ज़िन्दगी की ज़रूरत है

बड़ा अरमा था ज़िन्दगी साथ बिताने का
पर अफ़सोस है तेरी ख़ामोशी का 
ईएसएस से बड़ी दीवानगी और क्या होगी
इंतज़ार अब भी है तेरे आने का

तेरे अकेलेपन में साथ तेरा निभायेगे
तेरी तन्हाईओं में तेरे पास हम आएंगे
तू एक बार मुझे आवाज़ देकर तो देख
खुद रोकर भी हम तुझे हसाएंगे

मुहब्बत की दुनिआ में
सब कुछ हसीं हैं 
मुहब्बत नहीं तो 
कुछ भी नहीं हैं

रूठ कर आप से हम कहाँ जायेंगे
याद किये बिना हम कैसे रह पाएंगे
आपकी हर मुस्कान ख़ुशी है हमारी
वादा कीजिये हमेशा मुस्कुरायेंगे

बाद मुद्दत उसे देखा यारों
वो ज़रा भी नहीं बदली थी यारों
खुश न थी मुझसे बिछड़कर वो भी
उसके चेहरे पे लिखा तहत यारों

मोहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं
मुहब्बत सिर्फ पाने का नाम नहीं
वक़्त बीत जाती हैं किसी के इंतज़ार में
ये सिर्फ पल-दो-पल का साथ नहीं

अपनी ज़िन्दगी का अलग उसूल है
उसकी खातिर कांटे भी कुबूल है
हँस के चल दू टुटे सीसे के टुकड़ो पे
अगर वो कहे उनके बिछाए हुए फूल है

प्यार का बंधन बड़ा अजीब होता है
जितना नाजूक उतना ही मजबूत होता है
जो उठा लेते है काँटों को हाथों में
फूल भी उन्हीं को नसीब होता है

खुशबु में एहसास होता है
प्यार का रिश्ता कुछ ख़ास होता है
हर बात जुबान से कहना तो मुमकिन नहीं
इसलिए तो प्यार का नाम ऐतबार होता है